विनोद खन्ना का लंबी बीमारी के बाद मुंबई में 70 साल की उम्र में निधन

एक्टर विनोद खन्ना का लंबी बीमारी के बाद मुंबई में 70 साल की उम्र में निधन हो गया है। जैसे ही उनके निधन की खबर आई वैसे ही पूरे बॉलीवुड ने ट्विटर के जरिए शोक जताया। इतना ही नहीं

अमिताभ बच्चन तो ‘सरकार 3’ के प्रमोशन के ‌ल‌िए एक इंटरव्यू दे रहे थे। लेकिन जैसे ही उन्हें पता चला कि विनोद खन्ना नहीं रहे। उन्होंने अपना ‌इंटरव्यू बीच में ही छोड़ दिया और उनके परिवार से मिलने हॉस्पिटल पहुंच गए।

उधर पीएम मोदी ने भी विनोद खन्ना के निधन पर दुख जताया है। ट्वीट कर उन्होंने लिखा, ‘विनोद खन्ना एक पॉपुलर एक्टर के साथ समर्पित नेता और अद्भुत व्यक्ति थे। उनके निधन पर दुखी हूं। मेरी संवदनाएं साथ हैं।’ लेकिन दुख की बात ये है कि बॉलीवुड के सुपरस्टार कहे जाने वाले तीनों खान ने उनके निधन पर कोई रिएक्‍शन नहीं दिया है।

सलमान खान ने तो विनोद खन्ना के साथ तीन फिल्में भी की थीं। साथ ही सलमान विनोद खन्ना को लकी मानते थे। लेकिन शायद सलमान इतने बिजी हैं कि उनके पास अपने लकी चार्म को श्रद्धांजलि देने का भी समय नहीं है।

विनोद खन्ना का लंबी बीमारी के बाद मुंबई में निधन हो गया। उनका काफी समय से कैंसर का इलाज चल रहा था। गुरदासपुर से सांसद रहे विनोद खन्ना ने अपने एक्टिंग करियर में बहुत नाम कमाया। वह बॉलीवुड के सबसे बेहतरीन और गुड लुकिंग एक्टर्स में शुमार थे। एक नजर उनकी जिंदगी की खास बातों पर…

जानें 10 दिलचस्प बातें

1. विनोद खन्ना का भारत के आजाद होने से ठीक एक साल पहले पेशावर में हुआ था। लेकिन आजादी के बाद उनका परिवार मुंबई आ कर बस गया था।

2. विनोद किसी फिल्मी परिवार से ताल्लुक नहीं रखते थे। उनके पिता का केमिकल और टेक्सटाइल का बिजनेस था। बॉलीवुड में उन्होंने बिना किसी गॉडफादर के नाम कमाया है।

3. विनोद बचपन में काफी शर्मीले थे। स्कून में एक बार टीटर ने उन्हें जबरन नाटक में शामिल किया जिसके बाद उनकी एक्टिंग में रुचि बढ़ी।

ये भी पढ़ें- माधुरी दीक्षित भी विनोद खन्ना के नशे में बहक गईं थी…

4. मुगल-ए-आजम और सोलवां साल जैसी फिल्मों ने उनपर गहरा असर छोड़ा था। इसिलए कॉमर्स में डिग्री लेने के बाद उन्होंने फिल्मों में करियर बनाने की सोची।

5. विनोद खन्ना ने फिल्म ‘मन का मीत’ से डेब्यू किया था। फिल्म वैसे तो सुनील दत्त के भाई को लॉन्च करने के लिए बनाई गई थी लेकिन विलेन के रोल में विनोद छा गए।

6. फिल्म ‘मेरा गांव मेरा देश’ में सीन को असली बनाने के लिए विनोद को बेल्ट से भी पिटने में भी कोई दिक्कत नहीं थी।

7. विनोद ने अपने करियर की शुरुआत विलेन के तौर पर की थी लेकिन वह आगे चलकर एक सफल अभिनेता बने।

8. विनोद बॉलीवुड एक के इकलौते ऐसे एक्टर कहे जाते हैं जिन्होंने अपने करियर की चोटी पर आकर रिटायरमेंट लिया।

9. अपने करियर से रिटायरमेंट लेकर विनोद सन्यासी बन गए थे। उन्होंने अपनी पत्नी गीतांजली को तलाक दे कर अध्यात्म की राह पर चल पड़े थे।

10. 1980 में विनोद खन्ना अमेरिका चले गए जहां उन्होंने ओशो के आश्रम में बर्तन तक धोए थे।

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

NEWS © 2017 Frontier Theme