kismat ki bat h

*एक दिन यमराज एक लड़के के पास आये और बोले -*

_”लड़के, आज तुम्हारा आखरी दिन है!”_

_लड़का : “लेकिन मैं अभी तैयार नही हुँ “._

_यमराज : “ठिक है लेकिन सूची मे तुम्हारा नाम पहला है”._

_लड़का : “ठिक है , फिर क्युं ना हम जाने से पहले साथ मे बैठ कर चाय पी ले ?_

_यमराज : “सहि है”._

_लड़के ने चाय मे नीद की गोली मिला कर यमराज को दे दी._

_यमराज ने चाय खत्म की और गहरी नींद मे सो गया._

_लड़के ने सूची मे से उसका नाम शुरुआत से हटा कर अंत मे लिख दिया._

_जब यमराज को होश आया तो वह लड़के से बोले -“क्युंकी तुमने मेरा बहुत ख्याल रखा इसलिये मे अब सूची अंत से चालू करूँगा”..!_

_सीख :_

_”किस्मत का लिखा कोई नही मिटा सकता”_
_अर्ताथ – जो तुम्हारी किस्मत मे है वह _कोई नही बदल सकता चाहे तुम _कितनी भी कोशिश कर लो ._

_इसलिये भगवत गीता मे श्री कृष्ण ने कहा है -_

_”तू करता वही है जो तू चाहता है,_

_पर होता वही है जो मैं चाहता हुँ_

_तू कर वह जो मैं चाहता हुँ_
_फिर होगा वही जो तू चाहता हैं”_

..^..
,(-_-),
‘\””’.\’=’-.
\/..\\,’
//””)
(\ /
\ |,
,,; ‘,

_यह एक अर्थपूर्ण है !_
_इसलिये इसे पढे और दूसरों को भी_ _इसके बारे मे बताये l_

*”जय,जय,श्रीराधे”*

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

NEWS © 2017 Frontier Theme