Happy mothers day

. माँ झूठ बोलती है…
सुबह जल्दी उठाने सात बजे तो आठ कहती ,
नहा लो, नहा लो, के घर भर नारे बुलंद करती है ।
मेरी खराब तबियत का दोष बुरी नज़र पर मढ़ती,
छोटी परेशानियों पे बड़ा बवंडर करती है । ……….माँ झूठ बोलती है……

थाल भर खिला, तेरी भूख मर गयी कहती ।
जो मैं न रहू घर पे तो अनमनी सी वो ,
मेरे पसंद की रसोई फिर नही पकती है ।
मेरे मोटापे को कमजोरी की सूज़न बोलती है। ………माँ बड़ा झूठ बोलती है

दो ही रोटी रखी है रास्ते के लिए कह ,
एक मेरे नाम दो डिब्बे भर के रखती है ।
कुछ नही-कुछ नही, बोल नजर बचा बैग में ,
छिपी शीशी “अचार” की बाद में निकलती है । ……..माँ झूठ बोलती है

टोका टाकी से मैं झुंझला जाऊ कभी तो ,
समझदार हो अब न कुछ बोलूंगी मैं ,
ऐसा बोल अक्सर रुआँसी रूठती है ।
अगले ही पल चिंता में फिर हिदायती होती है । ….माँ झूठ बोलती है

तीन घंटे थियटर में ना बैठ पाऊँगी मैं ,
सारी फिल्में तो टी वी पे आ जाती है ,
बाहर का तेल मसाला तबियत खराब करता ,
बहानों से अपने पर होने वाले खर्च टालती है .।…माँ झूठ बोलती है

मेरी कामयाबियों को बढ़ा कर बताती ,
सारी खामियाँ सब से छिपा लेती है ।
उनके व्रत ,नारियल,धागे ,फेरे मेरे नाम के ,
तारीफ़ सबसे कर बहुत शर्मिंदा करती है ।…. माँ बड़ा झूठ बोलती है

भूल जाऊ फोन करना दुनियाँ के कामो में,
उनकी दुनिया “मैं“ ,मुझे कब भूलती है, ?
मुझ सा सुंदर उन्हें दुनिया में ना कोई दिखे ,
मेरी चिंता में अपने सुख भी नही भोगती है । …..माँ बड़ा झूठ बोलती है

मेरा मन सागर हो जाए खाली ऐसी वो गागर ,
जब पूछो अपनी तबियत “हरी” बोलती है ।
उनके ‘’जाये” है रग रग पहचानते हम भी,
दुनियादारी में भोली वो कब समझती है । ??………माँ बड़ा झूठ बोलती है ….

फैलाए सामानों से जो एक उठा लू ,
खुश होती जैसे खुद पर उपकार समझती है ।
मेरी नाकामयाबी पे गहरी उदासी ,
फ़िक्र में तबियत का नुकसान सहती है ।….माँ झूठ बोलती है

अकेली रहे घर पे, खिचड़ी पकाती ,
बाज़ार में जा मोल भाव बहुत करती है ।
हमारे शौक पूरे करते- करते वो ,
अपने खर्च काटने के हुनर जानती है ।…….. माँ झूठ बोलती है

जिम्मेवारियों से थक नाराज़ होती ,
सुबह से किये काम भीगी उँगलियों में गिनाती है ।
छोड़ के सब हरिद्वार जाउंगी कहते ,
रसोई में जा फिर जाने क्या चुनती है ।……..
माँ झूठ बोलती है ( सबको अपनी माँ की कहानी लगने वाली मेरी यह कविता हर माँ को समर्पित)
मातृ दिवस कि हार्दिक शुभकामनाएँ।
शुभप्रभात ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

NEWS © 2017 Frontier Theme